Press "Enter" to skip to content

पूर्व सांसद प्रेमचन्द गुड्डू फिर कांग्रेसी…भाजपा के लिए कहा ये सब…

सुयश भट्ट।।

मध्यप्रदेश में जहां आम जनजीवन थमा हुआ है वहीं सियासी उठापठक लगातार जारी है। कांग्रेस के बीस विधायकों को ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा भाजपा में शामिल करवाने के बाद उपचुनावों के लिए मशक्कत शुरू हो गयी है। दांवपेंच के इस दौर में पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू ने एक बार फिर दल बदल लिया है। शनिवार दोपहर को उन्होंने अपने बेटे अजीत बौरासी के साथ फिर से कांग्रेस का दामन थाम लिया है।

भाजपा के पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू ने शनिवार को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित पीसीसी कार्यालय पहुँचकर कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। प्रेमचंद गुड्डू को पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, जीतू पटवारी, रामनिवास रावत सहित कई नेताओं की मौजूदगी में सदस्यता दिलवाई गई।

भाजपा को लिया था निशाने पर

प्रेमचंद गुड्डू ने हाल ही में भाजपा द्वारा उन्हें अनुशासनहीनता का कारण बताते हुए प्राथमिक सदस्यता खत्म कर दी थी। इस पर गुड्डू ने भाजपा को निशाने पर लेते हुए कहा था कि वे पार्टी से फरवरी में इस्तीफा दे चुके थे। इसके बाद भाजपा द्वारा मई माह में कारण बताओ नोटिस और अनुशासनहीनता पर निलंबन अनुचित है। गुड्डू ने इस पर न्यायालयीन प्रक्रिया अपनाने की बात कहते हुए एक पत्र भी जारी किया था। इसके साथ ही गुड्डू की कांग्रेस में वापसी की बात काफी दिनों से चल रही थी। कुछ दिनों पहले ही गुड्डू की मुलाकात पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से हुई थी तभी से माना जा रहा था कि गुड्डू कांग्रेस में वापसी कर सकते है।

इसीलिए मिला था नोटिस

अंदरूनीखानों में चर्चा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होते ही गुड्डू लगातार बयानबाज़ी कर रहे थे। जिसके बाद बीजेपी ने गुड्डू को नोटिस भेज जवाब मांगा था। जवाब ना मिलने पर बीजेपी ने गुड्डू को भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया था। कांग्रेस की सदस्यता लेने के बाद गुड्डू ने कहा कि आज बड़ा मानसिक रूप से अच्छा महसूस कर रहा हूं। जब मैं बीजेपी में गया ऐसी कोई रात नही थी जिसमे मुझे चैन से नींद आई हो। गुड्डू ने कांग्रेस छोड़ने का वजह ज्योतिरादित्य सिंधिया को बताया।

दल बदलने का यह है गणित

कांग्रेस में दोबारा शामिल होने पर गुड्डू के सांवेर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने के कयास लगाये जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि पार्टी गुड्डू को उपचुनाव में सांवेर से चुनाव लड़ा सकती है। गुड्डू सांवेर से बीजेपी में शामिल हुए तुलसीराम सिलावट के खिलाफ चुनाव लड़ सकते है। बता दें कि सिलावट कांग्रेस की नाव से उतरकर शिवराज के बेड़े में शामिल होने के बाद गठित भाजपा के सरकार में जल संसाधन मंत्री हैं। गुड्डू क्षेत्र के दिग्गज नेताओं में गिने जाते है। वे इंदौर के सांवेर और आगर-मालवा से दो बार विधायक भी राह चुके हैं। वहीं उज्जैन संसदीय सीट से गुड्डू एक बार सांसद भी रहे है। इस नाते सिलावट के माथे पर उपचुनाव सलवटें आ सकती हैं।

More from मध्यप्रदेशMore posts in मध्यप्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *