Press "Enter" to skip to content

संबंध और सामंजस्य से बनती है स्कूल की विश्वसनीयता: शिक्षा मंत्री चौधरी

मध्यप्रदेश के स्कूली शिक्षा मंत्री ने किया स्कूल का औचक निरीक्षण

न्यूज़क्रस्ट नेटवर्क।।

‘किसी भी स्कूल की विश्वसनीयता संबंध और सामन्जस्य के बिना संभव नहीं है। इस स्कूल की व्यवस्था देख कर मैं कह सकता हूं कि सरकारी स्कूलों के प्रति आज भी समाज में विश्वसनीयता बरकरार है।इसी व्यवस्था को लेकर के हमारी सरकार ने अभिभावकों को स्कूल तक देखने का मौका दिया। पहली बार किसी सरकार ने स्कूल में अभिभावकों और टीचर्स पीटीएम के रूप में मीटिंग के लिए बुलाया है।’ यह बात बुधवार को स्कूली शिक्षा मंत्री डॉक्टर प्रभु राम चौधरी ने कही।वे शासकीय जहागिरिया स्कूल यहां पर औचक निरीक्षण को पहुंचे।

मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि,’आने वाले दिनों में आपको सरकारी स्कूलों में और अधिक शिक्षा गुणवत्ता व सामाजिक परिवर्तन दिखाई देगा ।इसका प्रतिफल यही होगा कि भविष्य में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या रोजगार के क्षेत्र में अधिक होगी।उन्होंने यहां पर विद्यार्थियों द्वारा दी गई सांस्कृतिक प्रस्तुतियों और पीटी अभ्यास को भी देखा। उन्होंने स्कूल की व्यवस्थाओं को देख कर के प्रसन्नता व्यक्त की, उन्होंने कहा कि स्कूल प्रबंधन चाहे तो किसी भी संस्था में व्यवस्थाओं को बेहतर कर सकता है।यह शिक्षकों की जवाबदारी होती है कि वह विद्यार्थियों के मन में विश्वास पैदा करें।’
संस्था प्राचार्य डॉ उषा खरे ने उन्हें स्कूल में चल रही सकारात्मक रोजगारोन्मुखी कार्यक्रमों के बारे में अवगत कराया।उन्होंने निजी सॉफ्टवेयर कंपनियों द्वारा चलाए जा रहे सर्टिफिकेट कोर्स व अन्य कंप्यूटर क्षेत्र के प्रशिक्षण व्यवस्थाओं को लेकर भी डॉ चौधरी को अवगत कराया। इस मौके पर उन्होंने एक निजी सॉफ्टवेयर कंपनी के प्रशिक्षक से परिचय कराया,जो छात्राओं को प्रशिक्षित कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि स्कूल में दर्ज गरीबी रेखा के नीचे अध्ययन कर रही छात्राओं को न्यूनतम शुल्क पर यह शैक्षणिक व्यवस्था उपलब्ध कराई गई है। इस मौके पर स्कूल स्टाफ भी मौजूद रहा।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *